वोट के लिए पीएम मोदी और सीएम शिवराज ने कलमा पढ़ा!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मध्यप्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान शुक्रवार को दाऊदी बोहरा समाज के इमाम हुसैन की शहादत मनाए जाने वाले कार्यक्रम में शामिल हुए। कार्यक्रम में पीएम कलमा बुदबुदाते दिखे।
मध्यप्रदेश में इस साल विधानसभा चुनाव होने हैं। सभी राजनीतिक पार्टियां जनता को उनका हितैषी बताने और अपने-अपने तरीके से उन्हें साधने की कोशिश कर रही हैं। अलग-अलग पार्टियों के बड़े नेता अलग-अलग समुदाय के कार्यक्रम में पहुंच रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मध्यप्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान शुक्रवार को दाऊदी बोहरा समाज के इमाम हुसैन की शहादत मनाए जाने वाले कार्यक्रम में शामिल हुए। इंदौर में आयोजित इस कार्यक्रम में पीएम और सीएम ने मर्सिया और सैयदना की मजलिस सुनी। मर्सिया सुनने के दौरान पीएम कलमा बुदबुदाते भी दिखे।
                                             वीडियो सौ. नवजीवन

सैयदना मुफद्दल सैफुद्दीन से मुलाकात के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने दाऊदी बोहरा समुदाय के लोगों को संबोधित किया। प्रधानमंत्री ने कहा, ”आप सभी के बीच में आना हमेशा मेरे लिए एक प्रेरक अवसर होता है। इस पवित्र अवसर पर आपने मुझे यहां आने का मौका दिया इसके लिए मैं आपका आभारी हूं।”

प्रधानमंत्री ने कहा, ”इमाम हुसैन के पवित्र संदेश को आपने अपने जीवन में उतारा है। सदियों से देश और दुनिया में पैगाम पहुंचाया है। इमाम हुसैन अमन और इंसाफ के लिए शहीद हो गए। उनकी सीख उस समय जितनी महत्वपूर्ण थी उतनी ही आज के लिए भी है। इन परंपराओं को मुखरता से प्रसारित करने की आवश्कता है। मुझे खुशी है कि बोहरा समुदाय का एक एक सदस्य इस मिशन में लगा हुआ है।”

बोहरा समाज के धर्मगुरु सैयदना मुफद्दल सैफुद्दीन ने इस मौके पर कहा कि इमाम हुसैन के शहादत की याद में प्रधानमंत्री का हमारे गम में शरीक होना बड़ी बात है। उन्होंने अल्लाह से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इस वतन को आगे ले जाने की शक्ति देने की दुआ भी की। सैयदना मुफद्दल सैफुद्दीन ने पीएम मोदी को जन्मदिन की अग्रिम बधाई भी दी।

पीएम मोदी के कार्यक्रम में शामिल होने के सियासी मायने निकाले जा रहे हैं। दरअसल प्रदेश में बोहरा समुदाय के लोगों की आबादी करीब 2.5 लाख है। देश में दाऊदी बोहरा समुदाय की सबसे ज्यादा आबादी गुजरात में है। प्रधानमंत्री मोदी जब गुजरात के मुख्यमंत्री थे तब भी उन्हें इस समुदाय का समर्थन हासिल था। ऐसे में तीन बार से मध्यप्रदेश की सत्ता पर काबिज बीजेेपी इस बार भी सत्ता हासिल करने के लिए हर समुदाय के लोगों को साधने में जुटी है। जिसमें बोहरा समाज भी शामिल है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: