मुजफ्फरपुर बालिका गृह कांड: नीतीश ने दी मंत्री मंजू वर्मा को क्लीनचिट, कहा, इस मुद्दे को उठाने का कोई मतलब नहीं

मुजफ्फरपुर के बालिका गृह में बच्चियों के साथ दुष्कर्म के मामले को लेकर बिहार से लेकर संसद तक संग्राम मचा हुआ है। दोषिओं और मामले में लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की मांग की जा रही है। इस बीच राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने अपनी सरकार की समाज कल्याण मंत्री मंजू वर्मा को क्लीनचिट दे दी है। प्रसे को संबोधित करते हुए मख्यमंत्री ने कहा कि मंजू वर्मा ने इस मामले में किसी भी किस्म की संलिप्तता से इनकार किया है, इस लिए इस मुद्दे को उठाना बेमानी है। उन्होंने कहा कि सीबीआई इस मामले की जांच कर रही है और हाईकोर्ट को जांच की निगरानी करनी चाहिए।

इसे भी पढ़ें: देवरिया में भी मुज़फ़्फ़रपुर जैसा कांड, 24 लड़कियां छुड़ाई गयीं

सवाल उठाए जा रहे हैं कि जिस विभाग की जिम्मेदारी इस ममले में कार्रवाई करने की सबसे ज्यादा थी। ऐसे में उसी विभाग के मंत्री को जांच के बगैर नीतीशी कुमार आखिर कैसे क्लीनचिट दे सकते हैं। जिस विभाग की मंजू वर्मा मंत्री हैं, उस विभाग के अधिकारियों पर कई गंभीर आरोप लगे हैं।
इस मामले को लेकर लोकसभा में जमकर हंगामा हुआ। कांग्रेस इस मामले में प्रश्नकाल के दौरान ही चर्चा चर्चा कराने की मांग कर रही है थी, जब इसकी इजाजत नहीं मिली तो कांग्रेस के सांसदों ने सदन जमकर हंगामा किया। वहीं प्रश्नकाल के बाद इस मुद्दे को लोकसभा में उठाते हुए आरजेडी के सांसदों ने गृहमंत्री से जवाब देने की मांग की। लेकिन गृहमंत्री ने सवालों का जवाब नहीं दिया।
वहीं पटना हाईकोर्ट में मुजफ्फरपुर बालिका गृह मामले की सुनवाई हुई। इस दौरान कोर्ट ने राज्य सरकार और सीबीआई से इस मामले में कार्रवाई की विस्तृत रिपोर्ट मांगी। मामले की सीबीआई जांच जारी है। बाल कल्याण विभाग और टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज से मामले से जुड़े दस्तावेज लेने के बाद सीबीआई की टीम मुजफ्फरपुर भी पहुंची और जांच को आगे बढ़ाया।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: