NRC पर अमित शाह Vs ममता बनर्जी !

राष्ट्रीय नागरिक पंजीकरण को लेकर देशभर में सियासी बवाल मचा है। सत्ता पक्ष जहां इसे भुनाने में जुटी है तो वहीं विपक्ष सरकार पर इसे गलत तरीके से लागूने करने का आरोप लगा रहा है। NRC का सबसे ज्यादा विरोध पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी कर रही हैं। 11 अगस्त को कोलकाता में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह रैली करने वाले हैं। उनकी रैली से पहले ही बीजेपी नेताओं ने संकेत दे दिए हैं कि पश्चिम बंगाल में अवैध बांग्लादेशी घुसपैठ की समस्या को वे चुनावी मुद्दा बनाने वाले हैं। इसके साथ ही बीजेपी बंगाल में भी असम की तरह ही एनआरसी लाने की जमीन तैयार करने में जुट गई है। बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने बंगाल में एक लाख से ज्यादा घुसपैठियों का अंदेशा जताते हुए पश्चिम बंगाल में भी एनआरसी लाने का सुझाव भी दिया था।

अमित शाह की 11 अगस्त को होने वाली रैली से पहले सियासी पारा गर्म है। शाह ने ममता बनर्जी को चेतावनी देते हुए कहा कि उन्हें स्थानीय प्रशासन ने अनुमति मिले या ना मिले लेकिन वो बंगाल जरूर जाएंगे। प्रदेश सरकार चाहे तो उन्हें गिरफ्तार कर सकती है। इसके जवाब में बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि शाह 365 दिन बंगाल आएं उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता।

आपको बता दें कि असम में सिटीजन रजिस्टर के फाइनल ड्राफ्ट में 40 लाख लोगों का नाम न होने पर ममता ने कहा था कि एनआरसी सियासी साजिश का नतीजा है। बीजेपी जो कर रही है, उससे गृह युद्ध हो सकता है। ममता के आरोपों पर शाह ने कहा था, “एनसीआर का विरोध कर रहीं ममता और राहुल गांधी बांग्लादेशियों पर अपना रुख साफ करें। क्या तृणमूल को आंतरिक सुरक्षा की चिंता नहीं है? बिहार और बंगालियों को निकालने की बात करके ममता ही लोगों को बांटने का काम कर रही हैं।”

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: