उत्तराखंड: मंत्री सतपाल महाराज ने नैनीताल और उधम सिंह नगर को दी बड़ी सौगात

उत्तराखंड के पर्यटन और सिंचाई मंत्री सतपाल महाराज ने कुमाऊं भ्रमण के दौरान नैनीताल के रामनगर में में पर्यटन और सिंचाई विभाग की करोड़ों रुपये की योजनाओं का लोकार्पण किया।

वहीं, दूसरी तरफ उधम सिंह नगर के काशीपुर में भी उन्होंने पर्यटन, सिंचाई और लघु सिंचाई विभाग की 21 करोड़ 98 लाख से निर्मित विभिन्न योजनाओं का लोकार्पण किया।

प्रदेश के सिंचाई, पर्यटन और संस्कृति मंत्री ने नैनीताल के रामनगर में पर्यटन विभाग द्वारा 570.47 लाख की लागत से निर्मित कन्वेंशन सेंटर और कोसी बैराज के अपर और डाउन स्ट्रीम में 41.48 लाख की लागत से निर्मित मनोरंजन पार्क के निर्माण और सौंदर्यकरण के कार्यों का लोकार्पण करते हुए कहा कि पर्यटन विभाग ने सभी जनपदों में पौराणिक महत्व के भगवान विष्णु, भगवान शिव, नाग देवता, नवग्रह एवं गोलजू मंदिरों का विवरण एकत्र कर सर्किट बनाने की एक पहल की है जिससे कि उत्तराखंड आने वाले पर्यटकों को इन धार्मिक स्थलों के पौराणिक महत्व के बारे जानकारी उपलब्ध होने के साथ-साथ उन्हें वहां जाकर दर्शनों का लाभ प्राप्त हो सके।

उन्होंने बताया कि नैनीताल के भीमेश्वर महादेव को शिव सर्किट, करकोटक के नाग देवता मंदिर, एवं घोड़ाखाल के गोलज्यू मंदिर को नागराजा एवं गोलज्यू मंदिर सर्किट में शामिल किया गया है, जबकि ओखलकांडा स्थित बृहस्पति देव मंदिर को नवग्रह सर्किट में शामिल किया गया है।

उन्होंने कहा कि इसी प्रकार उधमसिंह नगर जिले के काशीपुर स्थित मोटेश्वर महादेव को शिव सर्किट में शामिल करने के साथ-साथ गोविषाण शिला को प्रस्तावित बुद्ध सर्किट, नानकमत्ता एवं ननकाना साहिब को प्रस्तावित गुरुद्वारा सर्किट में स्थान दिया गया है।

उन्होंने बताया कि पर्यटन विभाग ने पं. दीनदयाल उपाध्याय गृह आवास (होमस्टे) विकास योजना के अंतर्गत होमस्टे निर्माण हेतु स्थानीय लोगों को अनुदान दिए जाने का प्रावधान किया है। उन्होंने बताया कि अभी तक राज्य में 2761 होमस्टे पंजीकृत किए जा चुके हैं।

सतपाल महाराज ने कहा कि हल्द्वानी शहर वह उसके उपनगरीय क्षेत्रों में वर्ष 2051 की पेयजल आवश्यकता और उधमसिंह नगर के लगभग 5 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराने के उद्देश्य से प्रस्तावित बहुद्देशीय परियोजना जमरानी बांध जिसकी लागत 2584.10 करोड़ है। इस योजना के तहत 14 मेगावाट क्षमता का जल विद्युत गृह निर्मित कर प्रतिवर्ष 63.4 मिलियन यूनिट विद्युत उत्पादन किए जाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

मंत्री ने उधम सिंह नगर के काशीपुर के विकासखंड परिसर में लघु सिंचाई विभाग के अंतर्गत उपखंड कार्यालय काशीपुर के 24 लाख 83 हजार रुपए की लागत से निर्मित आवासीय भवन एवं 10 करोड़ 60 लाख की लागत की नाबार्ड वित्त पोषित योजनाओं के निर्माण कार्यों के साथ-साथ नाबार्ड के अंतर्गत सिंचाई विभाग की जनपद उधमसिंह नगर के सितारगंज विकासखंड की कटना, बसगर भूडिया एवं दौंदा नेहरों के आधुनिकरण की 11 करोड़ 13 लाख 21 हजार की योजनाओं का भी लोकार्पण किया किया।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: