उत्तराखंड में कई घंटों से मूसलाधार बारिश, नदियां उफान पर, गंगा का जलस्तर भी बढ़ा

मानसून शुरुआत से ही उत्तराखंड में कई घंटों से मूसलाधार बारिश हो रही है जिसे नदियां उफान पर आ गयी हैं।

बरसाती नालों में भी पानी बढ़ गया है। ऋषिकेश और हरिद्वार में गंगा का जलस्तर बढ़ गया है। जिस कारण अलर्ट जारी किया गया है। गंगा, गोरी, शारदा, अलकनंदा, मंदाकिनी और नंदाकिनी नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं।

ऋषिकेश में लगातार बारिश जारी है। गंगा का जलस्तर 340.34 आरएल मीटर पर पहुंच गया है। गंगा खतरे के निशान से 18 सेंटीमीटर नीचे बह रही है। परमार्थ निकेतन स्वर्गाश्रम, त्रिवेणी और लक्ष्मण झूला के लगभग सभी गंगा घाट डूब गए हैं। मायाकुण्ड, चंद्रेश्वर नगर में पानी भर गया है। 

तपोवन नगर और मुनिकीरेती में आश्रमों और होटलों को अलर्ट जारी किया गया है। टिहरी, पौड़ी और ऋषिकेश प्रशासन लगातार मुनादी करवा रहा है। रायवाला के गौहरी माफी, प्रतीतनगर व श्यामपुर के खदरी माफी में लोगों से सुरक्षित स्थानों पर जाने के लिए कहा जा रहा है।

पहाड़ी व मैदानी इलाकों में हो रही बारिश के बाद शनिवार सुबह छह बजे हरिद्वार से गंगा में 3.75 लाख क्यूसेक पानी छोड़ने से गंगा उफान पर है। 

हरिद्वार में रात दो बजे से गंगा का जलस्तर बढ़ना शुरू हुआ। रात दो बजे गंगा में 2,15,698 क्यूसेक पानी आ गया। रात में ही यूपी सिंचाई विभाग ने भीमगौड़ा बैराज के सभी गेट खोल दिए। इसका पहले ही अलर्ट जारी हुआ था।

पानी का जलस्तर आज सुबह सबसे ज्यादा 3 लाख 92 हजार 104 क्यूसेक पहुंच गया था। पानी के साथ काफी मात्रा में सिल्ट आ रही है। फिलहाल हरिद्वार में जलस्तर बढ़ने से कोई नुकसान नहीं हुआ है। बैराज खोलने से गंग नहर का पानी बंद हो गया है। गंग नहर में यूपी के लिए 12 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा था।


आखिरकार मानसून की सक्रियता का असर अब मैदान से लेकर पहाड़ तक दिखाई देने लगा है। मौसम के बदले मिजाज के चलते शुक्रवार को राजधानी दून समेत पहाड़ से लेकर मैदान तक सुबह जबरदस्त बारिश का नजारा देखने को मिला। बारिश के चलते मैदान से लेकर पहाड़ तक पारा धड़ाम हो गया। परिणाम स्वरूप लोगों ने गर्मी से राहत की सांस ली।

दूसरी ओर मौसम विज्ञानियों ने शनिवार को राज्य के चमोली, बागेश्वर और पिथौरागढ़ जैसे जिलों में कहीं-कहीं पर भारी से बहुत भारी बारिश की संभावना जताते हुए रेड अलर्ट भी जारी किया है। राज्य के नैनीताल और चंपावत जैसे जिलों में कहीं-कहीं भारी बारिश की संभावना व्यक्त की गई है।

मौसम विभाग की ओर से जारी की गई रिपोर्ट के मुताबिक इन जिलों के अलावा राज्य के अन्य जिलों में विशेषकर पर्वतीय क्षेत्रों में तेज गर्जना के साथ तीव्र बौछार पड़ने और आकाशीय बिजली गिरने की संभावना जताई गई है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: