उत्तराखंड में 10 साल पुराने कॉमर्शियल वाहन हो जाएंगे ‘कबाड़’, बंद करने की है तैयारी, ये है प्लान

उत्तराखंड में पुराने कमर्शिल वाहन रखने वाले लोगों के लिए बुरी खबर है। 10 साल पुराने कमर्शिल वाहनों को लेकर NGT के प्रस्ताव पर सरकार बड़ा फैसला लेने की तैयारी में है।

NGT के प्रस्ताव पर 10 साल पुराने कमर्शियल वाहनों को बंद करने की तैयारी हो रही है। 4 नवंबर को राजधानी देहरादून में आरटीए की अहम बैठक होने जा रही है। बैठक में इस पर फैसला लिया जा सकता है। एनजीटी ने प्रदेश में बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए राज्य परिवहन विभाग को ये प्रस्ताव भेजा है। जिन कमर्शिल वाहनों को बंद करने का प्रस्ताव है, उनमें बस, टैक्सी, ऑटो, विक्रम शामिल हैं।

NGT के प्रस्ताव पर एआरटीओ अरविंद पांडे ने बताया कि NGT द्वारा परिवहन विभाग को ये प्रस्ताव भेजा गया है। उन्होंने कहा कि NGT के प्रस्ताव को आरटीए की बैठक में रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि बैठक में जो फैसला लिया जाएगा उसेक हिसाब से आगे का कदम उठाया जाएगा। राहत की बात ये है कि इस कदम के साथ ही परिवहन विभाग फ्री पॉलिसी को भी मंजूरी देने जा रहा है। इसके तहत सीएनजी और इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा देने के लिए हाथों-हाथ परमिट दिए जाएंगे।

गौरतलब है कि ग्लोबल वार्मिग और पर्यावरण में हो रहे अप्रत्याशित बदलाव के की वजह से NGT ने उत्तराखंड सरकार को ये सुझाव दिया है। इससे पहले उत्तराखंड में देश के कई वैज्ञानिक जुड़े थ, जिसमें हिमालयी राज्यों में हो रहे मौसम परिवर्तन पर चर्चा की गई थी। बैठक में मौसम में हो रहे बदलाव को लेकर कई अहम सुझाव सरकार को दिए गए थे। इसमें पुराने वाहनों को बंद करने पर भी चर्चा की गई थी।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: