उत्तराखंड: आत्मनिर्भर बनने की कोशिश में बंजर ज़मीन को बनाया उपजाऊ, सीएम ने की तारीफ, पढ़िये क्या कहा?

कोरोना काल में उद्योग-धंधों पर बहुत ही बुरा असर पड़ा है। कई कारखाने बंद होने की वजह से लोगों को रोजगार खोना पड़ा है। बड़ी तादाद में प्रवासी गांवों को लौट गए हैं।

ऐसे में उनके पास आत्मनिर्भर बनने के अलावा कोई रास्ता नहीं है। सरकारों को भी इस बात का एहसास है, इसलिए वो भी लोगों को आत्मनिर्भर बनने के लिए प्रोत्साहित कर रही हैं। इसी राह पर चलते हुए उत्तराखंड के एक युवक ने 15 साल से बंजर बड़ी जमीन को ही उपजाऊ बना डाला है। दरअसल टिहरी के थौलधार में युवक प्रकाश बड़ोनी ने 15 साल से बेकार पड़ी इस जमीन पर आत्मनिर्भर बनने की कोशिश में एक कदम आगे बढ़ाते हुए खेती शुरू की। जिसका रिजल्ट डेढ़ महीने में ही दिखने लगा है। पहाड़ों के बीच खाली पड़ी इस जमीन पर युवक ने सब्जी उगाना शुरू किया और अब वो सब्जियां तैयार हो गई हैं।

युवक अब इसी काम को आगे बढ़ाना चाहता है। वो आगे भी खेती ही करना चाहता है, इसके लिए वो सरकार का आर्थिक मदद चाहता है। उसने अपनी उगाई सब्जियों की फोटो सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत को ट्विट पर टैग किया और उनसे मदद की गुहार लगाई। उसने ट्विटर पर लिखा, ”आत्मनिर्भर बनने का एक छोटा सा प्रया , पिछले पंद्रह वर्ष पुरानी बंजर  जमीन पर सब्जी उत्पादन शुरू किया, जिसका रिज़ल्ट एक माह पंद्रह दिन में ही शुरू हो गया, मेरी सरकार से मांग है हमारी कुछ आर्थिक सहायता की जाय जिससे मै इसको बड़े स्तर पर कर सकूं”

सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भी प्रकाश के इस काम की जमकर तारीफ की और उसे टैग करते हुए लिखा, ”बहुत ही बढ़िया और सराहनीय प्रयास है। मैं इस उत्कृष्ट कार्य के लिए आपको बधायी देता हूं। प्रकाश, आप टिहरी के डीएम से सम्पर्क करें और ज़िले में चल रही परियोजनाओं का लाभ उठाएं।”

सीएम के प्रोत्साहन के लिए प्रकाश बड़ोनी ने शुक्रिया अदा किया। इस काम को आगे बढ़ाने की बात कही।

कोरोना काल में जिस बड़ी तादाद में बड़ी-बड़ी कंपनियां बंद हुईं। लोगों ने रोजगार खोए। उससे एक बात जो समझने वाली है वो ये कि हर किसी को आत्मनिर्भर बनने की तरफ कोशिश करनी चाहिए। अपने काम में रोजगार खोने के चांस काफी काम होते हैं।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: