उत्तराखंड के ये जिले बर्फबारी से बने स्वर्ग, 300 से ज्यादा गांवों पर बिछी बर्फ की चादर, देखें तस्वीरें

उत्तराखंड के पहाड़ी इलाकों में कई घंटों से लगातार बर्फबारी जारी है। सबसे ज्यादा बर्फबारी उत्तरकाशी और चमोली में हो रही है।

उत्तरकाशी और चमोली में बर्फबारी का आलम ये है कि 300 से ज्यादा गांवों पर बर्फ की सफेद चादर बिछ गई है। बर्फबारी की वजह से 26 मुख्य मार्ग समेत 40 से ज्यादा मर्ग बंद हो गए हैं। टिहरी जिले के धनोल्टी, नई टिहरी, चंबा, सुरकंडा और कद्दूखाल समेत कई इलाकों में जमकर बर्फबारी हुई। भारी बर्फबारी की वजह से चंबा-धनोल्टी, लंबगांव-प्रतापनगर, लंबगांव-कोटालगांव-चमियाला, नगुन-भवान, घनसाली-तिलवाड़ा मोटर मार्ग पर वाहनों की आवाजाही बंद हो गई है।

वहीं, उत्तरकाशी में बर्फबारी की वजह से करीब 200 गांवों पर बर्फ की चादर बिछ गई है। समुद्र के सतह से 1500 मीटर से ज्यादा ऊंचाई वाले इलाकों में बर्फबारी हुई है। बर्फबारी की वजह से गंगोत्री और यमुनोत्री हाईवे समेत जिले के आधा दर्जन से ज्यादा मोटर मार्गों पर यातायात बाधित हो रहा है।

चमोली में 130 गांवों पर बर्फ की चादर बिछ गई है। जोशीमठ, गोपेश्वर, घाट, गैरसैंण, नारायणबगड़, थराली, पीपलकोटी, नंदप्रयाग, देवाल जैसे सुदूरवर्ती गांवों में बर्फ की सफेद चादर बिछ गई है। 25 से ज्यादा पेयजल योजनाओं के स्रोत बर्फ में बदल हो गए हैं। आलम ये है कि इलाके में लोग बर्फ पिघलाकर पीने के पानी का इंतजाम कर रहे हैं।

जोशीमठ-मलारी, सलूड़-डुंगरा, लोहाजंग-वाण, ग्वालदम-चिडिंगा मल्ला, निजमूला-पगना, गोपेश्वर-चोपता, जोशीमठ-औली, जोशीमठ-परसारी, जोशीमठ-नरसिंह मंदिर, घाट-रामणी मार्ग बंद हैं। मौजूदा मौसम को देखते हुए चमोली के डीएम ने सभी अधिकारियों की छुट्टियां रद्द कर दी हैं।।

उधर, रुद्रप्रयाग जिले में केदारनाथ धाम में 7 फीट तक बर्फ जम गई है। इससे पहले पांच फीट बर्फ मौजूद थी। भारी बर्फबारी की वजह से पैदल मार्ग भी बर्फ से ढक गया है। त्रियुगीनारायण, झोषी, तोषी के अलावा रांसी, राउलेंक, दैंडा, चौमासी, चिलौंड, जाल तल्ला, गौंडार, उनियाणा और मल्ला समेत रानीगढ़, धनपुर और बच्छणस्यूं पट्टी के जंगल से लगे गांवों में भी आधा से ढाई फीट तक बर्फ जम चुकी है। नीचे तस्वीरें देख सकते हैं।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: