अंतरराष्ट्रीय

कर्बला की तारीख दोहराई जा रही, बच्चों के लिए कब्रगाह बना गाजा, बमबारी में हर रोज मारे जा रहे 420 मासूम!

इजरायल और हमास के बीच जंग जारी है। जंग को 25 दिन बीत चुके हैं। इजरायली सेना गाजा पर ताबड़तोड़ बमबारी कर रही है।

बमबारी से गाजा में हालात बद से बदतर होते जा रहे हैं। इजरायली हवाई हमलों में सबसे ज्यादा फिलिस्तीनी बच्चे और महिलाएं मारी जा रही हैं। आलम यह है कि गाजा बच्चों के लिए कब्रगाह बन गया है। संयुक्त राष्ट्र बाल कोष के कार्यकारी निदेशक के मुताबिक, गाजा में हर दिन 420 से ज्यादा बच्चे मारे जा रहे हैं या फिर घायल हो रहे हैं। इस आंकड़े से आप अंदाजा लगा सकते हैं कि गाजा में किस कदर बच्चों और महिलाओं पर कहर बरपाया जा रहा है। इससे भी शर्मनाक बात यह है कि दुनियाभर के ताकतवर देश इस भयावह मंजर को देखकर खामोश हैं या फिर इजयरायली हमलों को जायज ठहरा रहे हैं। सवाल यह है कि फिलिस्तीनी मासूम बच्चों और महिलाओं का आखिर क्या कसूर है? संयुक्त राष्ट्र की लाख कोशिशों के बावजूद इजरायल सीजफायर के लिए तैयार नहीं है।

इतिहास गवाह है, जब भी जंग हुई है, इसके सबसे ज्यादा शिकार बच्चे और महिलाएं ही हुई हैं। इजरायल और हमास के बीच ताजा जंग भी एक मिसाल है। एक तरफ गाजा पर इजरायल बमाबीर कर रहा है। वहीं दूसरी तरफ युद्ध क्षेत्र में इजरायल ने सख्त पाबंदियां लगा रखी हैं। इसका नतीजा यह है कि जंग से प्रभावित लोगों को जरूरत के मुताबिक, राहत नहीं पहुंच पा रहा है। इजरायल की पबंदियों का सबसे ज्यादा खामियाजा भी बच्चों को भुगतना पड़ रहा है। गाजा में पानी की भयानक कमी है। आलम यह है कि फिलिस्तीनी बूंद-बूंद के लिए तरस गए हैं।

संयुक्त राष्ट्र अंतराष्ट्रीय बाल आपातकालीन फंड की एक रिपोर्ट के मुताबिक, गाजा में कम से कम 940 बच्चों के लापता होने की खबर मिली है। गाजा में जितना पानी का सप्लाई होना चाहिए उसका सिर्फ 5 फीसदी पानी ही सप्लाई हो पा रहा है। बच्चों को पानी नहीं मिल पा रहा है। बच्चे डिहाईड्रेशन के शिकार हो रहे हैं। एक फिलिस्तीनी ने बताया कि जब भी हमारे बच्चे पानी मांग रहे हैं, हम उन्हें एक बर में सिर्फ एक घूंट ही पानी दे पा रहे हैं, क्योंकि पानी की बेहद कमी है।

यूनिसेफ के प्रवक्ता जेम्स एल्डर ने जिनेवा में संयुक्त राष्ट्र की प्रेस वार्ता में कहा कि गाजा बच्चों के लिए कब्रिस्तान बन गया है। एल्डर ने संयुक्त राष्ट्र की बच्चों की एजेंसी से तत्काल युद्धविराम की अपील को दोहराया। उन्होंने कहा कि गाजा में बच्चे न सिर्फ इजरायली हवाई हमलों में मारे जा रहे हैं बल्कि चिकित्सा देखभाल की कमी की वजह से भी उनकी जान जा रही है।

गाजा के स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, युद्ध में अब तक 8,300 फिलिस्तीनी मारे जा चुके हैं। मरने वालों में 3,500 बच्चे और दो हजार से ज्यादा महिलाएं शामिल हैं। वेस्ट बैंक में इजरायली सेना द्वारा कम से कम 122 फिलिस्तीनी मारे जा चुके हैं और 1,680 अन्य को हिरासत में लिया गया है।

गाजा में फिलिस्तीनियों की हर रात कमायत की रात की तरह गुजर रही है। इजरायल सबसे ज्यादा बमबारी गाजा पर रात में ही कर रहा है। बीती रात भी गाजा में फिलिस्तीनियों के लिए कमायत की रात थी। इजरायली हवाई हमलों में 40 से ज्यादा लोग मारे गए। इजरायली सुरक्षा बलों के मुताबिक, उन्होंने खूफिया एजेंसियों के मार्गदर्शन में गाजा में रातभर में करीब 300 ठिकानों पर हमला किया यानी बमबारी की।

गाजा के अल-जवायदा में इजरायली बमबारी में एक ही परिवार के 18 लोग मारे गए। इनमें दादा-दादी और पोते-पोतियों समेत कम से कम 18 लोगों वाला यह परिवार उस आश्रय स्थल पर इजरायली हवाई हमले के बाद मारा गया, जिसमें वे रह रहे थे। वहीं, राफा में, बिना किसी पूर्व चेतावनी के एक इजरायली हमले में एक आवासीय टावर को निशाना बनाया गया। हमले में कम से कम 9 लोग मारे गए। आपातकालीन सेवाओं के अधिकारी के अनुसार, मरने वालों की संख्या बढ़ने की आशंका है, क्योंकि कई लोग अभी भी मलबे में फंसे हुए हैं। वहीं, इजरायली सेना ने वेस्ट बैंक में हमास के वरिष्ठ नेता सालेह अल-अरौरी के घर को उड़ा दिया।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.