एक मंच पर नजर आए मुलायम, अखिलेश, रामगोपाल, क्या अकेले पड़ गए हैं शिवपाल ?

समाजवादी पार्टी की सामाजिक न्याय और लोकतंत्र बचाव यात्रा दिल्ली के जंतर मंतर समाप्त हो गई। साइकिल यात्रा के समापन के मौके पर पिता-पुत्र के साथ चाचा रामगोपाल यादव भी एक साथ मंच पर दिखे, लेकिन इस मंच पर शिवपाल यादव नहीं दिखे।

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव और उनके पिता मुलायम सिंह यादव के बीच लंबे वक्त से चल रही खटास अब कम होती नजर आ रही है। लंबे वक्त के बाद रविवार को दोनों एक साथ एक मंच पर नजर आए। दरअसल 23 सितंबर को समाजवादी पार्टी की सामाजिक न्याय और लोकतंत्र बचाव यात्रा दिल्ली के जंतर मंतर समाप्त हो गई। साइकिल यात्रा के समापन के मौके पर पिता-पुत्र के साथ चाचा रामगोपाल यादव भी एक साथ मंच पर दिखे, लेकिन इस मंच पर शिवपाल यादव नहीं दिखे। ऐेसे में सवाल उठ रहे हैं कि क्या हाल में अपनी नई पार्टी बनाने वाले शिवपाल यादव अकेले पड़ गए हैं।

पिछले महीने 27 अगस्त को शुरू हुई इस यात्रा के दौरान पार्टी के युवा कार्यकर्ताओं ने गाजीपुुर से दिल्ली तक का सफर साइकिल से तय किया। जंतर-मंतर पर यात्रा के समापन के मौके पर अखिलेश यादव और मुलायम सिंह यादव ने 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव के लिए हुंकार भरी। मुलायम सिंह ने कहा कि मोदी सरकार ने गरीबों को 15 लाख रुपये देने का वादा किया था, लेकिन अभी तक एक रुपया उनके खाते में नहीं आए। समाजवादी पार्टी के संस्थापक ने बीेजेपी पर झूठे वादे करके सत्ता हासिल करने का आरोप लगाया। कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए मुलायम ने यह भी कहा कि बूढ़ों का सम्मान किया जाए, इससे समाजवादी पार्टी कभी बूढ़ी नहीं होगी।

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने रैली को संबोधित करते हुए सबसे पहले पिता मुलायम का शुक्रिया अदा किया। इसके बाद अखिलेश ने कहा कि मौसम सुहाना है ऐेसे में सभी को आज साइकिल चलानी चाहिए थी। एसपी अध्यक्ष ने कहा कि समाजवादी पार्टी की साइकिल मामूली नहीं है, इसमें एक पहिया आंबेडर की विचारधारा का है तो दूसरा लोहिया विचारधारा से जुड़ा है। कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए अखिलेश यादव भी पिता की तरह मोदी सरकार पर जमकर बरसे।

नोटबंदी को जिएसटी को लेकर पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए अखिलेश ने कहा कि पीएम के इस कदम ने युवाओंं से रोजगार छीन लिया। उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि यूपी में स्वास्थ्य व्यवस्था चौपट हो गई है। गोरखपुर में ही बच्चे मारे जा रहे हैं। आपको बता दें कि परिवार में बंटवारे के बाद ऐसा पहली बार दिखा जब सार्वजनिक कार्यक्रम में मुलायम सिंह और अखिलेश यादव के साथ रामगोपाल यादव तो नजर आए ही। रामगोपाल यादव ने पैर छूकर मुलायम सिंह यादव का मंच पर स्वागत किया।

 

 

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: