उत्तराखंड: चमोली में गौचर मेले का शानदार आगाज, जानिए मेले में इस बार क्या है खास

उत्तराखंड के चमोली में गौचर मेले का शानदार आगाज हो गया है। गुरुवार को सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मेले का उद्घाटन किया।

मेले के उद्घाटन के मौके पर उन्होंने राज्य में खेती पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि जंगली जानवरों से हो रहे नुकसान से बचने के लिए खेती का तरीका बदलना होगा। उन्होंने कहा कि कंडाली और भांग की खेती से तैयार किए जाने वाले उत्पादों से अपनी आर्थिकी को मजबूत किया जा सकता है।

सीएम त्रिवेंद्र सिंह ने कहा कि सरकार ने नशा रहित भांग के 30 मैट्रिक टन बीज तैयार कर लिया है। उन्होंने चीड़ के उद्योग पर कहा कि इसकी पत्तियों से बैलेट आग की गोलियों का निर्माण किया जाएगा। इस मौके पर सीएम ने गलनाऊं-सिरण मोटर मार्ग का विस्तारीकरण, गोपेश्वर में अतिथिगृह, गौचर पेयजल योजना का पुर्नगठन, कर्णप्रयाग में बाढ़ सुरक्षा, गौचर में बाईपास मोटर मार्ग, बहुमंजिला पार्किंग स्थल, चट्टवापीपल-झिरकोटी, किमोली-उमासैंण मोटर मार्ग निर्माण जैसी योजनाओं की घोषणा भी की।

मुख्यमंत्री ने इस मौके पर सरकारी और गैर सरकारी स्टालों का निरीक्षण कर स्थानीय उत्पादों की जानकारी ली। उन्होंने मेला मैदान में 225 करोड़ रुपये की विभिन्न योजनाओं का लोकार्पण और शिलान्यास भी किया।

मले के उद्घाटन कार्यक्रम में इलाके के विधायक सुरेन्द्र सिंह नेगी, जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया, उपजिलाधिकारी कर्णप्रयाग देवानंद शर्मा, पूर्व मंत्री राजेंद्र भंडारी, पूर्व डिप्टी स्पीकर एपी मैखुरी, पूर्व विधायक अनिल नौटियाल, जिला पंचायत अध्यक्ष रजनी भंडारी और गौचर बालिका अध्यक्ष अंजू बिष्ट समेत कई अहम लोग शामिल हुए। गौचर मेला 20 नवंबर तक चलेगा। मेले में पहली बार राफ्टिगं का आयोजन किया गया है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

%d bloggers like this: